how to invest in share market

share market kaise start kare in hindi 2022

हिंदी प्रेमी सभी दोस्तों को नमस्कार ” दोस्तों हम सभी जानते हैं की हिंदी हमारी प्यारी और मात्री भाषा है | जब भी हमको स्टॉक मार्किट के बारे में जानना होता है तो हम इन्टरनेट पर टाइप करते हें हमको सारी जानकारी इंग्लिश में ही मिलती है जो हमको या तो समझ में नही आती है और अगर आ भी जाये तो हमारा दिल नही मानता है |

इसीलिए हमने NSE School की हेल्प से न्यू वेबसाइट बनाई है इस वेबसाइट में हम जितनी भी जानकारी देंगे वो सिर्फ हिंदी में होगी और सारी जानकारी शेयर मार्किट से रिलेटेड होगी | आज से हम शुरुआत करते हैं | आप हमारा साथ बने रहे | हमारी पूरी कोशिश होगी की आपको एक अच्छा इन्वेस्टर बनाया जाये |

हम आपको इस वेबसाइट में पूरी जानकारी देंगे रोजाना | आपको स्टॉक मार्किट से रिलेटेड सभी बेसिक और एडवांस चैप्टर भी पढ़ाये जायेंगे | आज हम बिलकुल बेसिक से शुरुआत करते हैं अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आये तो आप इस वेबसाइट को अपने मोबाइल या डेस्कटॉप पर सेव कर लें | इसके लिए आपको आपके ब्राउज़र पर जाकर सेव पेज होम या बुकमार्क करना होगा | आज का हमारा पहला चैप्टर है

share market kaise start kare

” share market kaise start kare ” दोस्तों शेयर मार्किट में स्टार्ट करने के लिए आपके पास सबसे पहले डीमेट अकाउंट होना चाहिए मतलब आप आज के समय शेयर मार्किट मैं सीधा निवेश नहीं कर सकते हैं आपको इसके लिए ब्रोकर को चूस करना होगा और उस ब्रोकर के थ्रू आप स्टॉक मार्किट में इन्वेस्ट कर सकते हो | आज की डेट में बहुत सरे ब्रोकर है जो आपका ऑनलाइन ही अकाउंट ओपन कर देंगे बस आपको उनके बताये कुछ स्टेप फॉलो करने पड़ेंगे |

share market kaise start kare
share market kaise start kare

ब्रोकर आपका डीमेट अकाउंट सेबी के cdsl या nsdl में ओपन कर देंगे | इन दोनों के बारे में आपको ज्यादा जानने की जरुरुत नहीं है बस ये समझो ये अकाउंट में आपके शेयर रहेंगे | ये पूरी तरह से सेफ और govt. है इसलिए आपको टेंशन लेने की जरुरुत नही है | ये अकाउंट आपके पेन कार्ड से जुड़ा होगा इस लिए सबसे पहले आपके पास pan card होना चाहिए |

अगर आपके पास पेन कार्ड है तो अच्छी बात है नहीं तो सुविधा सेंटर जा कर सबसे पहले उसको बना लें | बो आपको ये वनाने में हेल्प कर देंगे |

share market me invest kaise kare

share market me invest kaise kare” शेयर मार्किट में इन्वेस्ट करने के लिए आपको पास दो अकाउंट होने चाहिए ट्रेडिंग अकाउंट और डीमेट अकाउंट | ये दोनों अकाउंट आपके एक साथ खोल दिए जाते हैं तो आप टेन्स न लो | इसके बारे में हम समझाते हैं |

डीमेट अकाउंट ( DEMAT ACCOUNT ) क्या होता है

DEMAT ACCOUNT KYA HOTA HAI : डीमैट अकाउंट का फुल फॉर्म De-materialized अकाउंट होता है! जब भी आप शेयर मार्किट में अकाउंट ओपन करते हैं तो आपको आपके शेयर रखने के लिए जो की एलेक्टेरोनिक फॉर्म में होते है रखने के लिए तिजोरी की जरूरत होती है | ये DEMAT ACCOUNT तिजोरी का काम करता है | इसमें आपके सभी शेयर जिन्दगी भर के लिए सेफ रहते हैं जब तक आपको बेच न दो |

पहले क्या होता था की जब भी हम कोई शेयर खरीदते थे तो हमको उस शेयर रिलेटेड डॉक्यूमेंट मिल जाते थे | उसमे आपका अकाउंट नम्बर और आप की OWNERSHIP की डिटेल होती थी | बो डॉक्यूमेंट आपके पास फिजिकल रूप से होता था | मगर अब ये आपको फिजिकल न मिल कर आपके डीमेट अकाउंट में रख दिए जाते हैं | आप जब मर्जी इनको चेक कर सकते हो इसका कोई इशू नही है ये पूरी तरह से सेफ होते हैं | जेसे आपके पेसे बैंक में बल्कि उस से भी ज्यादा कुछ मायनो में |

अगर कभी आपको लगता है की आप का ब्रोकर सही तरह से काम नही कर रहा या कोई अन्य इशू हो जाता है तो आप डायरेक्ट एन शेयर को एक्सेस कर सकते हो आपके शेयर आपके PAN CARD की डिटेल देने पर आपको मिल जायेंगे सेबी के हेल्प से |

अगर कभी आप अपना ब्रोकर चेंज करते हैं तब भी आपके शेयर आपके डीमेट अकाउंट में सेव रहेंगे |

ट्रेडिंग अकाउंट (TRADING ACCOUNT)

Trading Account kya hota hai” Trading account ब्रोकर की साइड से होता है | मतलब आपको ब्रोकर से ये सुविधा मिलती है की आप अलग अलग शेयर को डायरेक्ट एक्सेस कर सकते हो ब्रोकर के प्लेटफोर्म से | इसमें ब्रोकर आपको Log In provide कर देते हैं और आप ब्रोकर की एप्लीकेशन या वेब से जा कर शेयर खरीद या बेच सकते हो | ये वहुत आसान है इसमें किसी को कोई दिकत नही आएगी |

ट्रेडिंग अकाउंट एक्चुअल में यूजर और डीमेट अकाउंट या फिर शेयर बाज़ार में समन्वय का रोल निभाते हैं | ये आपको बो सब कुछ provide करेंगे जिस से आप आसानी से आपकी ट्रेडिंग कर पाओ | इसमें ब्रोकर की कुछ फीस होती है जो की आज कल बहुत कम हो चुकी है |

और कुछ ब्रोकर तो डिलीवरी के चार्जेज भी नही लेते हैं | ये डिपेंड करता है अपने कोन से ब्रोकर में अपना अकाउंट खुलवाया है | इसके बारे में हम बाद में बात करेंगे |

Documents for open Demat Account

क्यूंकि शेयर मार्किट पूरी तरह से सेबी के दिशा निर्देश में ही चलती है इसलिए आपके पास डीमेट अकाउंट ओपन करबाने के लिए जो डॉक्यूमेंट चाहिए होंगे बो इस परकार है :

  • Pan Card
  • Adhar Card
  • Signature
  • Photo
  • Bank Account
  • mobile number or Mail id

Account opening steps

इसमें सभी प्लेटफार्म के अलग अलग स्टेप्स हो सकते हैं मगर डाक्यूमेंट्स एक होंगे ये हो सकता है स्टेप आगे पिच्छे हो | हम आपको Upstox Broker के usually स्टेप्स बतायेगे | बाकि ब्रोकर के भी एक जेसे ही होते हैं

सबसे पहले आपको आपकी mail id or mobile number डालना होगा | उसके बाद आपकी मेल ID ये फोन नंबर पर कन्फर्मेशन आयेगा |

तब अगला कदम आपसे बो पैन कार्ड नम्बर पुशेंगे | उसके बाद आपका बैंक अकाउंट नम्बर आपकी डिटेल्स जो आधार कार्ड पर हो | तब आपकी पिक्चर और आपके सिग्नेचर | TAB बो आपके आधार कार्ड का नम्बर लेते हैं | उसके बाद बो E-KYC के लिए बोलेंगे अगर आपके आधार कार्ड में मोबाइल नम्बर है तो आपको उस पर otp आयगे और अगर आपका मोबाइल नम्बर आपके आधार कार्ड के साथ लिंक नहीं है तो आपको KYC के लिए डॉक्यूमेंट पोस्ट से भेजने पड़ेंगे |

इसिलए आसान ये है की आप आपका आधार कार्ड अपडेट कर लें और अपने मोबाइल के साथ लिंक करबा ले | उसके बाद आपको कन्फर्मेशन मिल जाएगी हो सकता है बोरकर की तरफ से आपको हेल्प के लिए कॉल भी आ जाये | अब आपके अकाउंट २४ से ७२ घंटो में एक्टिव हो जायेगा | अपनी मेल को चेक करते रहें | वंहा आपको ID AND PASSWORD मिल जायेगा | जिस भी प्लेटफार्म से आपनें अकाउंट ओपन करवाया होगा | अब आप उस ब्रोकर की एप्लीकेशन खोल कर अकाउंट को एक्सेस कर सकते हो |

ये वहुत आसान है फिर आपको समझ न आये तो आप हमको कमेंट कर दीजियेगा हम आपकी पूरी हेल्प करेंगे |

 शेयर कितने प्रकार के होते हैं

साधारण रूप से शेयर दो प्रकार के होते हैं :

  • प्रेफरेंस शेयर
  • इक्विटी शेयर. 
 शेयर कितने प्रकार के होते हैं
 शेयर कितने प्रकार के होते हैं

प्रेफरेंस शेयर

ये बो शेयर होते हैं जिसमे आप का कंपनी के साथ सीधा कोई लेना देना नही होता है इसमें कम्पनी के साथ आपका पहले ही तय लाभांश तय होता है अब चाहए कंपनी का शेयर अधिक हो या कम , आपके अमाउंट पर कोई फर्क नही पड़ेगा जो तय राशि है बो मिलेगी ही |

इक्विटी शेयर

इक्विटी शेयर शेयर आप कंपनी के शेयर खरीद लेते हो मतलव आप उस कंपनी के पार्टनर बन जाते हो अब कंपनी में लाभ हो या हानि आप पर सीधा असर पड़ेगा | इसमें आपको डिविडेंट भी मिलता है और जो शेयर का प्राइस बढ़ेगा उसका प्रॉफिट भी |

इक्विटी शेयर होल्डरों को ही कम्पनी के मामलों में मत का अधिकार होता है जो लोकतांत्रिक होता है। जिसके पास ज्यादा शेयर होते हैं वही बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर को चुन सकते हैं। 

ब्रोकिंग फर्म क्या होते है ( WHAT IS BROKING FIRM )

ब्रोकिंग फर्म क्या होते है ( WHAT IS BROKING FIRM ) अब हम मान आपको ब्रोकिंग फर्म के बारे में बतायेंगे | मतलब जहाँ से आप आपका अकाउंट खुलवायेंगे ये कोन कोन होते है और इनकी सर्विसेज केसी होती है |

किसी भी शेयर को खरीदने और बेचने का जो प्लेटफार्म आपको उपलव्ध करबाते हैं उनको ब्रोकिंग फर्म कहते हैं | मार्किट में सभी ब्रोकर फर्म SEBI से रजिस्टर होती हैं और SEBI की देख रेख में काम करते हैं | इन सभी का काम करने का तरीका अलग अलग हो सकता है और इनका कमीशन भी अलग अलग हो सकता है | इसी लिए आपको ब्रोकर को सोच समझ कर ही चुनना चाहिए

ब्रोकिंग फर्म मुख्य रूप से दो तरह की होती हैं | 1) फुल सर्विस ब्रोकर 2) डिस्काउंट ब्रोकर

फुल सर्विस ब्रोकर :

ये ब्रोकर आपको स्टॉक मार्किट के टिप्स के साथ साथ सिंपल सर्विस भी देते हैं | इनके चार्जेज हाई हो सकते हैं | कुछ फुल टाइम ब्रोकर आपको एक्स्ट्रा मनी भी प्रोविडे करवा देते हैं ताकि आप अधिक शेयर खरीद सको | ये सभी ब्रोकर का अलग अलग होता है |

अच्छे फुल सर्विस ब्रोकर आपकी फाइनेंसियल को समझते हैं और आपको सही राये देते हैं की कब पेस्सा लगाना है और कब नही हाँ ये चार्जेज अधिक ले सकते हैं | कुछ फुल सर्विस ब्रोकर हैं : ICICIdirect , Kotak Securities ‘ HDFC Securities ‘ IIFL Securities ‘ ETC

डिस्काउंट ब्रोकर :

डिस्काउंट ब्रोकर आज के समय में काफी ज्यादा कस्टमर गेन कर रहें है रीज़न है इनका सिंपल प्लेटफोर्म और काफी कम दाम में या सिर्फ फ्लैट प्राइस पर यानी पर ट्रेड सिर्फ 20 RS. या उस से भी कम अगर आपका अमाउंट तय सीमा से कम है |

ये जायदा से ज्यादा आपसे 20 RS ही चार्ज करेंगे चाहे आपका अमाउंट 20 लाख से ज्यादा शेयर का ही क्यूँ न हो | इनमे से कुछ ब्रोकर तो आपसे डिलीवरी शेयर लेने पर एक RS भी नही लेते हैं | कुछ फेमस डिस्काउंट ब्रोकर हैं | (1) UPSTOX (2) ZERODHA (3) 5 PAISA (4) ANGLE BROKING ETC

शेयर बाजार में निवेश कैसे किया जाता है?

शेयर बाजार में निवेश कैसे किया जाता है?
शेयर बाजार में निवेश कैसे किया जाता है?

शेयर बाजार में निवेश कैसे किया जाता है? शेयर बाज़ार में निवेश करने के अलग अलग तरीके हैं | मगर आज हम आपको सिर्फ 3 तरीकों के बारे में ही बतायेंगे | हमारा उदेश्य आपको सशक्त बनाना है इसलिए पहले आप इन तीन तरीकों के बारे में जान लीजिये | फिर हम आपको इनके बारे मैं डिटेल में बतायेंगे आगे के चैप्टर में और आपको इतना एक्सपर्ट बना देंगे की आप अपने शेयर का चूनाव खुद कर सकों और दूसरों की बातों में न आकर |

  1. INTRADAY TRADING
  2. DELIVERY TRADING
  3. OPTION TRADING

Intraday Trading kya hoti hai ? ( what is intraday trading )

“intraday Trading” ट्रेडिंग करने का सबसे छोटा प्रारूप होता है | मतलब आप जो भी शेयर खरीदते हो बो आपको उसी दिन ही बेचने होते हैं मतलब सुबह भारत में मार्किट 9:15 पर ओपन होती है | इस समय से ले कर दोपहर 3 बजे तक आपको शेयर खरीद कर बेचना होता है | ये ट्रेडिंग एक्सपर्ट लोग ज्यादा करते हैं इसके कुछ फायदे और कुछ नुकसान होते हैं

Intraday ke fayde ya laabh: Advantage of intraday
  1. intraday में आपको ब्रोकर से अधिक मार्जिन मिल जाता है मतलब अगर आपके पास 1000 रुपये हैं तो ब्रोकर आपको ये सहुलत दे देगा की आप १०,000 यानि 10 गुना ज्यादा पेसो के शेयर ले सकते हो | ये मार्जिन अलग अलग शेयर और अलग अलग ब्रोकर पर डिपेंड करता है की बो कितना देते हैं इसमें सेवी का भी रोल होता है | क्यूंकि सेवी छोटे इन्वेस्टर की सुरक्षा के लिए अपने रुल में चेंज लाता रहता है जिसको ब्रोकर को मानना पड़ता है |
  2. intraday से आपको ओवर नाईट होने वाले रिस्क से सुरक्षा मिलती है मतलव अगर अपने आज शेयर खरीदा और समझो शाम को कोई उस कंपनी से रिलेटेड बाद न्यूज़ आ गयी तो आपको अगले दिन लोस उठाना पड़ सकता है | intraday में उसी दिन आपके शेयर बिक जायेंगे और अगर अपने नहीं बेचे तो आपका ब्रोकर बेच देगा | बो अगले दिन कैर्री फार्वड नहीं होते है | इस से आपका ओवर नाईट रिस्क कम हो जाता है |
  3. higher returns
  4. अगर कोई शेयर मार्किट सीखना चाहता है तो वो वहुत थोड़े अमाउंट से सिख सकता है की स्टॉक मार्किट केसे काम करती है |
Intaday Trading ke nuksaan : Disadvantage of Intraday
  1. इंट्राडे ट्रेडिंग में तनाव का स्तर बहुत अधिक होता है।
  2. इंट्राडे ट्रेडिंग में लगातार ध्यान देने की जरूरत है।
  3. इंट्राडे ट्रेडिंग में कोई लाभांश और बोनस लाभ उपलब्ध नहीं हैं।
  4. इंट्राडे ट्रेडिंग के लिए आवश्यक राशि डिलीवरी की तुलना में कम होती है जिससे निवेशकों द्वारा कम राशि पर जोखिम लेने का अधिक जोखिम होता है और इस प्रकार कोई भी गलत निर्णय पूरी पूंजी को मिटा सकता है।

Delivery Trading kya hoti hai ? ( what is Delivery trading )

Delivery Trading kya hoti hai ? ( what is Delivery trading ) ” डिलीवरी ट्रेड तब होता है जब कोई ट्रेडर शेयर खरीदता या बेचता है और उसी दिन पोजीशन को स्क्वायर ऑफ नहीं करता है। ये लेन-देन एक्सचेंजों के टी + 2 निपटान चक्र के अनुसार तय किए जाते हैं यानी सोमवार को खरीदे/बेचे गए शेयर बुधवार को बेचे जाते हैं और इसी तरह आगे भी।

अधिकतर इसका उपयोग लम्बे समय तक शेयर को होल्ड करने के लिए किया जाता है | जितने भी न्यू इन्वेस्टर होते हैं उनको इसमें पैसा लगाना चाहिए | क्युकी अगर शेयर का दाम कम भी हो जाता है तो आपके पास unlimited टाइम होता है | बैसे रिस्क इसमें भी होता है इसलिए शेयर खरीद पुरोख्त का काम समझदारी से करना चाहिए |

Delivery ke fayde ya laabh: Advantage of Delivery Trading
  • समयबद्ध नहीं: इसमें आप कभी भी शेयर बेच सकते हो कोई सीमा नहीं है ये आपके डीमेट अकाउंट में प्रॉपर्टी की तरह रहते हैं
  • लाभांश और बोनस शेयर:जब आप लंबी अवधि के निवेश करते हैं और शेयरों पर पकड़ बनाए रखते हैं, तो आप जो लाभ कमाते हैं वह आपका एकमात्र लाभ नहीं होता है। सुशासन के साथ स्थिर संगठनों में दीर्घकालिक निवेश अन्य लाभ भी लाता है। ऐसे संगठन अपने हितधारकों को लाभांश और बोनस शेयरों के मुद्दों के साथ पुरस्कृत कर सकते हैं। ये वे लाभ हैं जो आपको समय-समय पर अच्छी कंपनियों से प्राप्त होते हैं। ऐसे मामलों में, अच्छी संख्या में शेयरों में निवेश से आपको अच्छी खासी कमाई हो सकती है
Delivery trading disadvantages:
  • पूरी कीमत का भुगतान: डिलीवरी ट्रेडिंग में आपको स्टॉक रखने के लिए स्टॉक की पूरी कीमत चुकानी पड़ती है। इसके विपरीत, Intraday trader केवल आंशिक भुगतान करते हैं क्योंकि वे शेयरों की डिलीवरी नहीं लेते हैं। इसलिए, डिलीवरी ट्रेडिंग के मामले में, आपको ट्रेड करने के लिए अधिक पूंजी को ब्लॉक करना होगा।
  • बोरिंग इन्वेस्टमेंट : रोमांच के शोकीन इन्वेस्टर को डिलीवरी ट्रेडिंग उबायु लगती है मगर मेरी नजर में ऐसा कुछ नहीं है |

what is option trading Option Trading

Option Trading बेग्गिनेर के लिए बिलकुल भी आसान नही है ये जितनी आसान दिखती है उतनी ही मुश्किल है | क्यूंकि हम ये मान रहे हैं की आप अभी न्यू हो इसीलिए हम इस चैप्टर में आपको इसके बारे में ज्यादा नही बतायेंगे | पर हम वादा करते हैं की आपको आप्शन ट्रेडिंग के बारे में पूरी डेप्थ जानकारी देंगे और आपको एडवांस लेवल तक सिखायेंगे “| वेसे अभी के लिए आप सिर्फ इतना जान लो की

आप्शन ट्रेडिंग में आपके पास आप्शन होता है की आप किसी भी शेयर ये मार्किट की मूवमेंट को देख कर जानकारी हासिल करो की मार्किट उप जाएगी या डाउन . अगर मार्किट उप जाएगी तो आप शेयर के लोट को call करेंगे और अगर आपको लगता है की स्पेसिफिक शेयर या मार्किट डाउन जाएगी तो आप उस शेयर को put करेंगे |

आप्शन ट्रेडिंग न्यू कामेर के लिए वहुत ट्रिकी हो सकती है इसीलिए आप अभी जो सिखा है उस पर ध्यान दो और विशबास रखो आप आत्म निर्भर बनोगे | बस आपको अच्छी प्रेक्टिस के जरूरत है और बो आप डेमो ट्रेडिंग कर के कर सकते हो या फिर डीमेट अकाउंट ओपन करबा कर वहुत ही कम पेसो से स्टार्ट कर सकते हो |

जब आपको लगे की आप comfortable हो तब रिस्क Management कर के स्टॉक को खरीद या बेच सकते हो |

Summary

share market में पेस्सा लगाना सभी का हिडन सपना होता है मगर हम सभी ये जानते नही हैं की केसा लगये और अगर लगायें तो हमारा वहुत मुश्किल से कमाया गया पेस्सा डूब न जाए | आपको शेयर मार्किट में पेस्सा लगाने से पहले कुछ बातों का ख्याल रखना है की आप कभी भी बिना सीखे मार्किट में पैसा न लगाये और अगर लगाना है तो बहुत ही थोड़े मतलब ना के बराबर पैसा इन्वेस्ट करें | बाकि आप समय के साथ साथ सिख जाओगे “

share market FAQ

शेयर मार्केट में नुकसान कैसे होता है?

शेयर मार्किट में नुक्सान तब होता है जब आप बिना सोच समझ कर किसी शेयर को खरीद या बेच देते हो

शेयर मार्किट का अकाउंट कैसे खोले

आप किसी भी ब्रोकर के पास जा सकते हो आपकी सहूलियत की अनुसार बाकि मैं upstox उसे करता हूँ |

भारत में कितने शेयर बाजार है?

नॉर्मली भारत में दो शेयर बाज़ार है जिनपर ज्यादातर खरीद पुरोख्त होती है | NSE and BSE

शेयर मार्केट में काम कैसे करें?

इसके बारे में हमने आपको पूरी तरह से बताया है

Disclaimer

शेयर बाज़ार पूरी तरह से जोखिमो के अधीन है इस आर्टिकल में दी गयी जानकारी पूरी तरह से एजुकेशन से रिलेटेड है | अपने पैसो को सोच समझ कर ही इन्वेस्ट करें |

Leave a Comment

Your email address will not be published.